Saturday, April 13, 2024
Homeउत्तर प्रदेशराष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण तथा राष्ट्रीय महिला आयोग के तत्वधान में महिला...

राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण तथा राष्ट्रीय महिला आयोग के तत्वधान में महिला कल्याण विभाग के सयुंक्त कार्यक्रम

-

spot_img

चंदौली

उ0प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ के पत्रांक 2026/एसएलएसए-विविध-2023 (महिला) (ऋ/ सरन) दिनांकित 23.जून की ओर से दिनांक 12.जुलाई से दिनांक 31 जुलाई तक राष्ट्रीय महिला आयोग के प्रस्ताव के नालसा द्वारा अनुमोदनोपरांत जनपद के समस्त विभागों एवं समस्त तहसील विधिक सेवा समिति के द्वारा विभिन्न जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने हेतु प्राप्त निर्देशों के अनुक्रम में जनपद न्यायाधीश/ अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण चन्दौली के द्वारा दिये गये दिशा-निर्देशों के अर्न्तगत आज दिनांक 31 जुलाई को महिला कल्याण के संबंध में विधिक
जागरूकता शिविर/कार्यक्रम का आयोजन राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय, गोलाबाद नौगढ़, में अपर जनपद न्यायाधीश/सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण चन्दौली ज्ञान प्रकाश शुक्ल की अध्यक्षता में दीप प्रज्वलित कर मां सरस्वती की वन्दना के साथ शुभारम्भ किया गया, जो जनपद के महिला कल्याण व स्वास्थ्य विभाग,राजस्व,विकास विभाग संबंधित सभी पदाधिकारियों की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ। अपर जनपद न्यायाधीश/सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण चन्दौली द्वारा उक्त शिविर में महिलाओं के उत्थान हेतु सरकार द्वारा जो भी प्रयास किये जा रहे है, योजनाएं चलाई जा रही है व उनके सम्बन्ध में विधिक प्रावधान क्या-क्या है, राज्य
सरकार की विशेष योजना मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना, कन्या सुमंगला योजना व निराश्रित महिला पेंशन योजना आदि के बारें में विस्तृत जानकारियां दी गयी । इसी क्रम में माननीय महोदय द्वारा साइबर क्राइम पर भी महिलाओं को जागरूक किया गया तथा यह भी बताया कि यदि किसी के खाता से बिना जानकारी के पैसा निकल जाता है तो उसे तुरंत ही साइबर क्राइम नंबर 1930 पर काल करके सूचना देनी चाहिए जिससे उसका खाता तुरंत सीज कर दिया जाता है और निकला हुआ पैसा वहीं पर रूक जाता है।

प्रभात कुमार प्रोबेशन अधिकारी द्वारा महिलाओं के संबंध में चलाई जा रही विभिन्न सरकारी योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारियां दी गयी। उन्होंने आगे बताते हुए कहा कि केन्द्र सरकार व राज्य सरकार द्वारा संचालित जन कल्याणकारी योजनाओं के बारे में विस्तृत रूप से बताया गया एवं कन्या समृद्धि योजना में किस प्रकार से बालिकाओं के माता-पिता द्वारा लाभ लिया जाता है के बारें में विस्तृत जानकारी दी गयी।
सुश्री माधुरी यादव सिविल जज (जू०डि०) एफ०टी०सी० प्रथम चन्दौली द्वारा महिलाओं के संबंध में विशाखा बनाम स्टेट आफ राजस्थान लता सिंह बनाम उ0प्र0 राज्य, मैरी रॉय बनाम स्टेट ऑफ केरला, लक्ष्मी बनाम भारत संघ, तमिलनाडु बनाम सुहाष कट्टी इत्यादि कई विधिक व्यवस्थाओं के संबंध में बताते हुए कहा कि यदि जनपद में किसी भी महिला को किसी भी विभाग के संबंधित समस्या आती है तो इसकी शिकायत भी कार्यालय जिला विधिक सेवा प्राधिकरण चन्दौली को की
जा सकती है। भारत में राष्ट्रीय महिला आयोग, राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली व राज्य महिला आयोग उ0प्र0 द्वारा अनेक योजनाओं को संचालन किया जा रहा है तथा केन्द्र एवं राज्य की योजनाओं का क्रियान्वयन धरातलीय स्तर पर प्रदान किये जाने हेतु रोजाना प्रचार-प्रसार किया जाता है।
डा० कल्पना और डा० विजय प्रकाश द्वारा Women and the Reproductive Helth Rights, The Medical Termination of pregnancy Act, 1971, Pre-Natal diagnostic Techniques (Regulation and Prevention of Misuse),
Amendment Act, 2022. Cervical Cancer involvement of female Doctor & PLVs & Arrangement of testing Pertaining to
cervical Cancer in coordination with C.M.O. इत्यादि के बारें में जानकारी दी गयी । सर्वाइक कैंसर क्या है और उससे बचाव के बारे में बताया गया। यह एक प्रकार का वायरस इंफेक्शन है ,यह 12 वर्ष से उपर की बालिकाओं व महिलाओं में पाया जाता है। उन्होनें बताया कि अमूमन माहवारी के समय जो महिलायें काटन कपड़ा प्रयोग में लाती है उसके
साफ-सफाई न करने की वजह से यह बीमारी होती है । उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि आजकल प्रत्येक गांव गिरांव में नैपकिन उपलब्ध है, महिलाएं माहवारी के दौरान नैपकिन का ही उपयोग करें और अपनी साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें। उपरोक्त बीमारी के संदर्भ में टीका भी बाजार में उपलब्ध है जो दो से ढाई हजार का आता है यदि कोई उक्त बीमारी से
पीड़ित है तो जांच कराकर टीकाकरण करा सकता है।
सुश्री रिजवाना यूनिसेफ मंडलीय सलाहकार वाराणसी ने महिला संबंधी कानून व बालिकाओं संबंधी कानून के बारे में विस्तृत जानकारी दी तथा पॉक्सो अधिनियम 2015 पर विशेष रूप से चर्चा किया तथा यह भी बताया कि यदि कोई पॉक्सो एक्ट से पीड़ित होता है तो उसे अपनी बात छुपानी नहीं चाहिए ,अपने घर या परिवार में जरूर बताना चाहिए जिससे उसका निराकरण किया जा सके।
श्री रमेश चन्द्र तिवारी एवं रितिक रोशन सिंह ,पैनल अधिवक्ता जिला विधिक सेवा प्राधिकरण चन्दौली द्वारा संयुक्त रूप से उपस्थित आमजन मानस को विधिक जागरूकता एवं विधिक साक्षरता के बारे में विस्तारपूर्वक बताया गया। उक्त शिविर में बड़ी संख्या में आशा बहुएं, आंगनबाड़ी कार्यकर्त्रीगण, पत्रकार, शिक्षक, घरेलू महिलाएं, छात्राएं, पी० एल० वी० व अन्य ग्रामीण जन उपस्थित रहे। समस्त जन को जलपान कराया गया व पोस्टर, व पम्पलेट्स प्रदान किया गया।

spot_img

सम्बन्धित ख़बरें

spot_img

हमे फॉलो करें

6,722FansLike
6,817FollowersFollow
3,802FollowersFollow
1,679SubscribersSubscribe
spot_img

ताजा ख़बरें

spot_img
error: Content is protected !!